डेस्क खबरें खटाखट 29मईप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) आज सुबह 11 बजे अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) के जरिए देशवासियों को संबोधित किया  हर महीने के आखिरी रविवार सुबह 11 बजे आकाशवाणी और डीडी चैनलों पर प्रसारित होने वाले ‘मन की बात’ कार्यक्रम का यह 89वां एपिसोड था

23 भाषाओं और 29 बोलियों में प्रसारित होता है ‘मन की बात’ कार्यक्रम

बता दें कि प्रसार भारती अपने आकाशवाणी नेटवर्क पर इस कार्यक्रम को 23 भाषाओं और 29 बोलियों में प्रसारित करता है. इसके अलावा, प्रसार भारती अपने विभिन्न डीडी चैनलों पर इस कार्यक्रम के दृश्य संस्करणों को हिंदी और अन्य भाषाओं में भी प्रसारित करता है. ‘मन की बात’ कार्यक्रम के पहले एपिसोड का प्रसारण साल 2014 में 3 अक्टूबर को हुआ था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड में चारधाम यात्रा कर रहे श्रद्धालुओं से यात्रा के दौरान साफ सफाई का ध्यान रखने की अपील करते हुए कहा कि कुछ यात्री इन पवित्र तीर्थ स्थलों पर गंदगी फैला रहे हैं इसलिए सफाई पर ध्यान देकर अपनी आस्था को नया आयाम दें। पीएम मोदी ने रविवार को रेडियो पर प्रसारित अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ की 89वीं कड़ी में श्रद्धालुओं से कहा कि लोग बड़ी संख्या में लोग ‘चारधाम’ और खासकर केदारनाथ में हर दिन हजारों की संख्या में पहुंच रहे हैं और यात्रा के सुखद अनुभव भी बांट रहे हैं लेकिन कुछ यात्रियों द्वारा फैलाई जा रही गंदगी से कई लोग बहुत दुखी भी हैं। उन्होंने कहा कि हम, पवित्र यात्रा में जाएं और वहां गंदगी का ढेर हो, ये ठीक नहीं।

 शिकायतों के बीच कई अच्छी तस्वीरें भी मिल रही हैं। कई श्रद्धालु ऐसे भी हैं जो बाबा केदार के धाम में दर्शन पूजन के साथ स्वच्छता की भी साधना कर रहे हैं। कोई अपने ठहरने के स्थान के पास सफाई कर रहा है तो कोई यात्रा मार्ग से कूड़ा-कचरा साफ कर रहा है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत की अभियान टीम के साथ मिलकर कई संस्थाएं और स्वयंसेवी संगठन भी वहां काम कर रहे हैं। हमारे यहां जैसे तीर्थ-यात्रा का महत्व होता है वैसे ही तीर्थ-सेवा का भी महत्व बताया गया है और मैं तो ये भी कहूंगा तीर्थ-सेवा के बिना तीर्थ यात्रा भी अधूरी है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि देवभूमि उत्तराखंड में कई लोग स्वच्छता और सेवासाधना में लगे हुए हैं। उन्होंने रूद्रप्रयाग के मनोज बैंजवाल का जि़क्र किया और कहै कि पिछले 25 सालों से पर्यावरण की देख-रेख का बीड़ा उठाए हैं। स्वच्छता के साथ ही पवित्र स्थलों को प्लास्टिक मुक्त करने में भी जुटे हैं। इसी तरह से गुप्तकाशी के सुरेंद्र बगवाड़ी भी स्वच्छता को अपना जीवन मंत्र बनाए है। वह गुप्तकाशी में नियमित रूप से सफाई कार्यक्रम चलाते हैं और इस अभियान का नाम भी उन्होंने ‘मन की बात’ रख लिया है।

ऐसे ही, देवर गांव की चम्पादेवी पिछले तीन साल से अपने गांव की महिलाओं को कूड़ा प्रबंधन सिखा रही हैं। चंपा ने सैकड़ों पेड़ भी लगाए हैं और अपने परिश्रम से एक हरा-भरा वन तैयार कर दिया है। पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे ही लोगों के प्रयासों से देव भूमि और तीर्थों की वो दैवीय अनुभूति बनी हुई हैं जिसे अनुभव करने के लिए हम वहां जाते हैं, इस देवत्व और आध्यात्मिकता को बनाए रखने की जिम्मेदारी हमारी भी तो है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *