एक मगरमच्छ घर के अंदर देखते ही परिवार के उड़ गए होश और दहशत में काटी आधी रात

फतेहपुर के अमौली के चांदूपुर थाना अंतर्गत आवाजीपुर गांव में मगरमच्छ घर के अंदर घुस गया जिसे देखने के बाद परिवार और ग्रामीणों में दहशत फैल गई। आधी रात में ग्रामीण लाठी लेकर मगरमच्छ को घेर कर खड़े रहे।

खबरें खटाखट संवाददाता। अमौली क्षेत्र के चांदुपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में अजब-गजब घटना सामने आई है, यहां एक घर के अंदर घुसा मगरमच्छ छिपकर बैठ गया और आधी रात उसे देखते ही परिवार के होश उड़ गए। पड़ोसियों से मदद के लिए चिल्लाए लेकिन घबराहट इतनी थी कि गले से आवाज नहीं निकल रही थी। घर के बाहर भागने के बाद पड़ोसियों को जानकारी दी तो रात में ही घर के बाहर लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। घर के अंदर मगरमच्छ घुसने का वीडियो इंटरनेट मीडिया के सोशल प्लेटफार्म पर तेजी से वायरल हो रहा है।

चांदुपर थाने के अवाजीपुर गांव में बने मकान में जावेद खान परिवार के साथ रहते हैं। शाम को खाना खाने के बाद परिवार सो गया था। रात में जावेद अचानक नीद खुलने पर जागे तो घर के बरामदे में मगरमच्छ को घूमता देखकर उनके होश उड़ गए। वह मदद के लिए चीखने का प्रयास करते रहे लेकिन एक पल के लिए घबराहट में उनकी आवाज नहीं निकली। बाद में उन्होंने पहले परिवार को नींद से उठाकर जानकारी दी तो वो भी घबरा गए। जावेद ने किसी तरह बरामदे से घर के बाहर आकर पड़ोसियों को जगाया और मगरमच्छ घर में घुसने की जानकारी दी। 

फतेहपुर के आवाजीपुर गांव में रात के समय एक मगरमच्छ घर के अंदर घुस आया तो लोगों में दहशत फैल गई। 

घर के अंदर मगरमच्छ घुस जाने की जानकारी होते ही ग्रामीणों की भीड़ एकत्र हो गई। ग्रामीणों ने थाना पुलिस को सूचना दी। काफी देर बाद पुलिस आई और वन विभाग की टीम का इंतजार करने लगी। इस बीच ग्रामीण लाठी लेकर मकान के अंदर मगरमच्छ को घेरे रहे। थाना प्रभारी किशन सिंह ने बताया कि वन विभाग की टीम नहीं आई तो स्थानीय लोगों की मदद से मगरमच्छ को मशक्कत के बाद एक बोरी में बंद कराया गया। शुक्रवार भोर यमुना नदी में ले जाकर जलधारा में उसे छोड़ दिया गया है। मगरमच्छ नदी में छोड़े जाने के बाद गांव के लोगों ने राहत की सांस ली।

गांव से एक किमी दूर है यमुना नदी : मगरमच्छ बस्ती के अंदर कैसे पहुंचा, यह एक बड़ा सवाल है। बस्ती से यमुना करीब एक किमी दूरी पर हैं। ग्रामीणों ने बताया कि एक साल पहले गांव के तालाब में मगरमच्छ देखा गया था, उस समय वन विभाग की टीम ने खोजबीन किया लेकिन पता नहीं चला था। संभव है कि वो मगरमच्छ बस्ती में आने के बाद घर में घुस गया हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *