संसद की कार्यवाही महंगाई, जीएसटी वृद्धि और कांग्रेस अध्यक्ष से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ जैसे मुद्दों पर विपक्ष के हंगामे के कारण बार-बार बाधित

संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही महंगाई, जीएसटी वृद्धि और कांग्रेस अध्यक्ष से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ सहित विभिन्न मुद्दों पर विपक्ष के हंगामे के कारण बार-बार बाधित
राज्यसभा में विपक्षी दलों ने आज भी मूल्य वृद्धि, आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी दरों में बढोतरी और न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य के मुद्दे पर विरोध जारी रखा। पहले स्थगन के बाद 12 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होने पर आम आदमी पार्टी, डी एम के, वाम दलों और अन्य विपक्षी सदस्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सदन के बीचोंबीच आ गये। शोर-शराबे के बीच उप-सभापति हरिवंश ने सदस्यों से अपनी सीटों पर बैठने का आग्रह किया और प्रश्नकाल चलाने का प्रयास किया लेकिन शोर शराबा जारी रहने पर उन्होंने सदन की कार्यवाही 12 बजकर 35 मिनट तक स्थगित कर दी। बैठक दोबारा शुरू होने पर सदस्‍यों का विरोध जारी रहा।
इससे पहले सदन की कार्यवाही शुरू होने पर कांग्रेस सदस्‍यों के विरोध के बाद दोपहर 12 बजे तक स्‍थगित कर दी गई थी। ये सदस्‍य मनी लॉड्रिंग के कथित मामले में कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ को लेकर हंगामा कर रहे थे। सदन की बैठक शुरू होने पर ये सदस्‍य तख्तियां लहराते हुए सदन के बीचोंबीच आ गये। सभापति एम0 वैंकेया नायडू ने विरोध जता रहे सदस्‍यों को चेतावनी देते हुए कहा कि उन्‍हें अब सदस्‍यों का नाम लेना पडेगा। लेकिन सदस्‍यों का विरोध जारी रहने पर उन्‍होंने सदन की कार्यवाही 12 बजे तक स्‍थगित कर दी।
इससे पहले सभापति ने मनोनीत सदस्‍य वीरेन्‍द्र हेगड़े को सदन के सदस्‍य के रूप में शपथ दिलाई।
लोकसभा में भी मूल्‍य वृद्धि, जीएसटी दरों में बढोतरी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को प्रवर्तन निदेशालय द्वारा पूछताछ के लिए बुलाये जाने को लेकर विपक्षी सदस्‍यों के हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही बाधित रही। कांग्रेस सदस्य पार्टी अध्यक्ष को प्रवर्तन निदेशालय द्वारा पूछताछ के लिए बुलाये जाने के विरोध में नारेबाजी कर रहे थे। अन्‍य विपक्षी दलों के सदस्यों ने आवश्यक वस्‍तुओं की कीमतों में बढोत्‍तरी और जीएसटी दरें बढाये जाने के खिलाफ नारेबाजी की।
सदन की बैठक शुरू होने पर विपक्षी सदस्य तख्तियां लहराते हुए सदन के बीचोंबीच आ गये। शोरशराबे के बीच अध्‍यक्ष ओम बिरला ने प्रश्नकाल की कार्यवाही शुरू की। अध्‍यक्ष ने विरोध जता रहे सदस्‍यों को अपनी सीटों पर जाने का बार-बार आग्रह किया लेकिन उनकी अपील का कोई असर नहीं हुआ। सदन में हंगामा जारी रहने पर अध्‍यक्ष ने सदन की कार्यवाही साढे 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।
हंगामे के बीच, संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी ने स्पष्ट किया कि सरकार कार्य मंत्रणा समिति के निर्णय के अनुसार, मूल्य वृद्धि पर चर्चा कराने के लिए तैयार है। श्री जोशी ने आश्चर्य व्‍यक्‍त किया कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष कानून से ऊपर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *