अग्निपथ भर्ती योजना के तहत अग्निवीर बनने के लिए भारतीय नौसेना को सबसे ज्यादा 9.55 लाख आवेदन मिले हैं। इसमें 82 हजार महिला उम्मीदवारों ने भी पंजीकरण कराया है। इसी के साथ अब नौसेना में सीनियर सेकेंडरी रिक्रूट और मैट्रिक रिक्रूट की पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो गई है। अग्निपथ योजना के लिए नौसेना में पंजीकरण कराने वालों की संख्या वायु सेना से भी ज्यादा हो गई है क्योंकि वायु सेना को साढ़े सात लाख आवेदन मिले हैं।

वायु सेना के मुकाबले दो लाख ज्यादा हुए नौसेना में पंजीकरण

नौसेना प्रवक्ता के अनुसार, भारतीय नौसेना में 10 प्लस 2 स्तर पर अग्निवीर बनने के लिए 20,449 महिलाओं ने आवेदन किया है। इसके अलावा 2,82,879 पुरुषों के भी आवेदन मिले हैं। यानी नौसेना को अग्निपथ योजना के तहत एक हफ्ते में तीन लाख से ज्यादा आवेदन मिले हैं। नौसेना ने 12वीं पास युवाओं के लिए 15 जुलाई को आवेदन की शुरुआत की थी जिसके लिए 24 जुलाई तक पंजीकरण हुए। पहले हफ्ते में भारतीय नौसेना में अग्निवीर बनने के लिए 3,03,328 युवाओं ने आवेदन किया जिनमें 20,449 महिलाएं भी शामिल हैं। इसके बाद दसवीं पास युवाओं के लिए भारतीय नौसेना ने 25 जुलाई से आवेदन प्रक्रिया की शुरुआत की थी। पहले चरण में 3000 भर्तियां होनी हैं।

भारतीय नौसेना को 9.55 लाख आवेदन मिले

अग्निपथ भर्ती योजना के तहत अग्निवीर बनने के लिए भारतीय नौसेना को 9.55 लाख आवेदन मिले हैं। इसमें 82 हजार महिला उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया है। इसी के साथ अब नौसेना में सीनियर सेकेंडरी रिक्रूट और मैट्रिक रिक्रूट की पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो गई है। अग्निवीर के रूप में भर्ती होने के बाद महिलाओं को अलग-अलग वॉरशिप्स में तैनात किया जाएगा। इन्हें पहले चरण में प्रशिक्षण देने के बाद भारतीय नौसेना के अलग-अलग लोकेशन पर तैनात किया जाएगा।

24 जून से शुरू की गई थी आवेदन प्रक्रिया

भारतीय नौसेना से पहले भारतीय वायु सेना ने अग्निपथ योजना के लिए 24 जून को आवेदन प्रक्रिया खोली थी जिसमें रिकॉर्ड संख्या में युवाओं ने आवेदन किया। तीन दिन के अंदर वायु सेना में भर्ती के लिए करीब 57 हजार अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया। रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 5 जुलाई को बंद हुई जिसमें अग्निपथ योजना के लिए भारतीय वायु सेना को 7,49,899 आवेदन मिले हैं। भारतीय सशस्त्र सेनाओं में नई भर्ती प्रक्रिया ‘अग्निपथ योजना’ को देश के युवाओं का जोरदार समर्थन मिला है।

अब भारतीय सेना में भर्ती रैलियां होंगी शुरू

भारतीय सेना में भर्ती रैलियां इसी माह शुरू होने जा रही हैं। उत्तर प्रदेश के बरेली में भर्ती रैली 19 अगस्त से 15 सितंबर के बीच होगी। यह रैली आसपास के 12 जिलों को कवर करेगी। मुजफ्फरनगर और आगरा में भर्ती रैलियां 20 सितंबर से 10 अक्टूबर के बीच मेरठ क्षेत्र के 13 जिलों और आगरा क्षेत्र के 12 जिलों को कवर करते हुए होंगी। इसी तरह लखनऊ क्षेत्र की भर्ती रैलियां कानपुर में 22 अक्टूबर से 10 नवंबर के बीच होंगी और इसमें 13 जिलों को कवर किया जायेगा। अयोध्या जिले में भर्ती रैली 16 नवंबर से 6 दिसंबर के बीच होगी और यह 13 जिलों को कवर करेगी। वाराणसी में भर्ती रैली 16 नवंबर से 10 दिसंबर के बीच होगी, जो 12 जिलों को कवर करेगी।

कब हुई थी ‘अग्निपथ योजना’ की घोषणा ?

केंद्र सरकार ने भारतीय सशस्त्र सेनाओं में नई भर्ती प्रक्रिया ‘अग्निपथ योजना’ का ऐलान 14 जून को किया था। इस स्कीम में चुने जाने वाले उम्मीदवारों को ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा। इस स्कीम के तहत भारतीय सेना, नौसेना और वायु सेना में नौजवानों को चार साल के लिए भर्ती दी जाएगी। उनमें से 25 प्रतिशत को बाद में नियमित सेवा के लिए शामिल किया जाएगा। साल 2022 में करीब 46 हजार युवाओं को इस स्कीम के तहत नियुक्त किया जाएगा। सेना में भर्ती होने के लिए उम्मीदवारों को फिजिकल फिटनेस टेस्ट, मेडिकल टेस्ट और कॉमन एंट्रेंस एग्जाम से गुजरना होगा। उसके बाद ही फाइनल सिलेक्शन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *