उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सूचना सेवा के अधिकारियों से फर्जी खबरों से निपटने पर जोर दिया

उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सूचना सेवा के अधिकारियों से सरकार की नीतियों और पहल को क्षेत्रीय भाषाओं में समय से सूचना देकर लोगों को सशक्‍त बनाने का आह्वान किया है। उन्‍होंने नई दिल्‍ली में 2018 और 2019 बैच के भारतीय सूचना सेवा अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि कोई भी लोगों को विभिन्‍न कार्यक्रमों के बारे में साधारण और आसान भाषा में जानकारी देता है तो लोग अपनी पात्रता और सरकारी प्रक्रिया को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं और इससे पारदर्शिता आती है।    उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि सुधारों की सफलता लोगों के जुड़ने पर निर्भर करती है और सूचना सेवा देश की विकास यात्रा में भागीदार के रूप में लोगों को एक मंच पर लाने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती है। श्री नायडू ने कहा कि संचार व्‍यवस्‍था जनता और सरकार के बीच की दूरी कम करती है और नागरिक केंद्रित लोकतांत्रिक सरकार के लिए भारतीय सूचना सेवा की भूमिका महवत्‍वपूर्ण है।

दो तरह की संचार व्‍यवस्‍था पर जोर देते हुए उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि सरकार को भी लोगों की भावनाओं के बारे में जानकारी दी जानी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि सूचना और संचार प्रौद्योगिकी क्षेत्र में क्रांति के साथ सोशल मीडिया ने लोगों को अपने आसपास की स्थिति के बारे में अधिक जागरूक बना दिया है लेकिन यह फर्जी समाचार के प्रसार की कीमत पर आगे आ रहा है। उन्‍होंने कहा कि गलत सूचना से निपटना कुशल नीति कार्यान्‍वयन के लिए महत्‍वपूर्ण है। श्री नायडू ने सूचना सेवा के अधिकारियों से फर्जी खबरों से निपटने पर जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि समाचार और विचार कभी भी संयुक्‍त नहीं किए जा सकते। उपराष्‍ट्रपति ने इस बात पर जोर दिया कि मीडिया को निष्‍पक्ष होना चाहिए। अपने विद्यार्थी काल से लेकर देश के सर्वोच्‍च पदों पर पहुंचने की अपनी यात्रा का स्‍मरण करते हुए श्री नायडू ने प्रशिक्षुओं को सफलता हासिल करने के लिए समर्पण और कठिन परिश्रम के साथ काम करने की सलाह दी। इससे पहले भारतीय जन संचार संस्‍थान – आईआईएमसी के महानिदेशक संजय द्विवेदी और अपर महानिदेशक आशीष गोयल ने उपराष्‍ट्रपति को प्रशिक्षु अधिकारियों के प्रशिक्षण के बारे में जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *