मुक्केबाजी में भारत को 7 पदक मिले

मुक्केबाजी में भारतीय दल को सात पदक मिले , जिसमें 3 स्वर्ण, 1 रजत और तीन कांस्य पदक हैं। मुक्केबाजी में स्वर्ण पदक नीतू घंघास, अमित पंघल, निकहत जरीन को मिला तो वहीं रजत पदक केवल सागर अहलावत को मिल पाया। इसके अलावा कांस्य पदक विजेताओं की सूची में जैस्मिन लम्बोरिया, मोहम्मद हुसामुद्दीन, रोहित टोकस का नाम शामिल है।

बैडमिंटन में भारतीय शटलरों ने जीते 6 पदक

बैडमिंटन में इस बार भारतीय शटलरों मे कमाल कर दिया। भारतीय शटलरों ने 3 स्वर्ण 1 रजत और 2 कांस्य पदक जीते। स्वर्ण पदक पीवी सिंधु, लक्ष्य सेन, सात्विक-चिराग को प्राप्त हुआ तो वहीं रजत भारतीय बैडमिंटन टीम को मिला। कांस्य पदक प्राप्त करने वालों में किदांबी श्रीकांत, त्रिषा-गायत्री रहे।

टेबल टेनिस में भारत ने जीते 5 पदक

टेबल टेनिस में भी भारतीय खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन रहा। भारत ने इस स्पर्धा में 3 स्वर्ण सहित 5 पदक जीते। इस खेल में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वालों में अचंता शरथ कमल, टीटी पुरुष टीम, शरथ-श्रीजा की मिश्रित युगल जोड़ी शामिल है। वहीं रजत पदक विजेता शरथ की साथियान पुरुष युगल जोड़ी बनी जबकि कांस्य पदक जी साथियान को मिला।

जूडो में भारत ने दो रजत और 1 कांस्य सहित तीन पदक जीते

जूडो में भी भारत ने दो रजत और 1 कांस्य सहित तीन पदक जीते। रजत पदक जहां सुशीला देवी और तूलिका मान को मिला तो वहीं एक कांस्य पदक विजय कुमार यादव को प्राप्त हुआ।

लॉन बॉउल्स में भारत ने 1 स्वर्ण सहित जीते कुल दो पदक

लॉन बॉउल्स में भारत ने 1 स्वर्ण सहित कुल दो पदक जीतकर इस बार दुनिया को हैरत में डाल दिया। इस बार जहां महिला लॉन बॉल टीम ने स्वर्ण तो पुरुष लॉन बॉल टीम रजत पदक जीता।

इसके अलावा भारत ने स्क्वैश में दो कांस्य (सौरव घोषाल-, दीपिका पल्लीकल / सौरव घोषाल ) पदक जीता। वहीं भारत ने पैरा टेबल टेनिस में 1 स्वर्ण (भाविना पटेल) और एक कांस्य (सोनलबेन पटेल) जीता। भारत की महिला हॉकी टीम ने कांस्य और पुरुष हॉकी टीम ने रजत पदक जीता, जबकि भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने रजत पदक पर कब्जा किया।

इस प्रकार भारत ने कुल 61 पदकों (22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदक) के साथ पदक तालिका में चौथे स्थान प्राप्त किया। वहीं ऑस्ट्रेलिया 142 पदकों (52 स्वर्ण, 44 रजत और 46 कांस्य) के साथ पहले नंबर पर रहा। दूसरे नंबर पर इंग्लैंड 132 पदकों (स्वर्ण-47, रजत-47, कांस्य-38) के साथ रहा। जबकि कनाडा 70 पदकों (19 स्वर्ण, 25 रजत और 26 कांस्य) के साथ तीसरे नंबर पर रहा।

बता दें कि गोल्ड कोस्ट 2018 में पिछले संस्करण में, भारतीय एथलीटों ने कुल 66 पदक जीते थे। जिसमें 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य पदक शामिल हैं। इस तरह भारत मेजबान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बाद तीसरे स्थान पर रहा था।

  • CWG 2022 का हुआ शानदार समापन, खूब खेला इंडिया

भारत ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में 22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदकों के साथ कुल 61 पदक जीतकर अपने अभियान का समापन किया। राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत का प्रदर्शन बेहतरीन रहा। भारत ने कुल 61 पदकों के साथ अपने अभियान का समापन किया। इस बार के कॉमनवेल्थ खेलों में भारतीय पहलवानों का दमदार प्रदर्शन देखने को मिला। यही कारण रहा कि भारत को सर्वाधिक स्वर्ण और सर्वाधिक तमगे कुश्ती से हासिल हुए, जहां देश ने छह स्वर्ण, एक रजत और पांच कांस्य सहित 12 पदक जीते। भारोत्तोलकों ने भरोत्तोलन में (वेटलिफ्टिंग) भारतीय अभियान की बेहतरीन शुरुआत करते हुए तीन स्वर्ण, तीन रजत और चार कांस्य सहित 10 पदक जीते। संकेत सरगर (पुरुष 55 किग्रा) ने रजत पदक जीतकर बर्मिंघम 2022 में भारत का खाता खोला था।पदक तालिका में भारत चौथे स्थानपदक तालिका में भारत चौथे स्थान पर रहा। ऑस्ट्रेलिया 178 पदकों के साथ शीर्ष पर रहा। मेजबान इंग्लैंड 175 और कनाडा 92 पदकों के साथ क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रहा। राष्ट्रमंडल खेलों के आखिरी दिन भारतीय एथलीट्स ने 4 स्वर्ण, 1 रजत और 1 कांस्य पदक जीता। पीवी सिंधु ने महिला एकल के फाइनल मुकाबले में कनाडा की मिशेल ली को हराकर गोल्ड मेडल जीता। सिंधु की इस जीत के साथ भारत पदक तालिका में न्यूजीलैंड को पीछे छोड़ते हुए चौथे स्थान पर पहुंच गया है। पीवी सिंधु के अलावा लक्ष्य सेन और सात्विक और चिराग की जोड़ी ने गोल्ड मेडल जीता है। भारतीय पुरुष हॉकी टीम को ऑस्ट्रेलिया के हाथों 0-7 से हार का सामना करना पड़ा है। भारतीय हॉकी टीम को तीसरी बार कॉमनवेल्थ गेम्स में रजत पदक मिला है।लॉन बाउल्स में भारत ने रचा इतिहासभारत के नजरिए से इन खेलों में खास बात लॉन बॉल में भारतीय टीम का प्रदर्शन रहा। भारत ने इतिहास रचते हुए महिला वर्ग में स्वर्ण तो पुरूष वर्ग में रजत पदक जीता। यह अपने आप में एक अनोखी जीत साबित हुई जिसमें भारत की ओर से दोनों ही वर्गों में पदक प्राप्त हुए।कुश्ती में विनेश फोगाट ने लगाई स्वर्ण की हैट्रिकवहीं कुश्ती में महिला पहलवान विनेश फोगाट ने स्वर्ण पदक हासिल करने में भारत के लिए हैट्रिक लगाकर इतिहास रच दिया। उन्होंने 2014, 2018 और 2022 के राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण जीता। वह लगातार तीन स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला भी बन गई हैं।मीराबाई ने पहला स्वर्ण तो संकेत ने पहला रजत दिलायाइसके अलावा हॉकी पुरुष वर्ग में रजत पदक के साथ भारत का सफर खत्म हुआ। भारोत्तोलन में संकेत सरगर ने पहला पदक दिलाया था तो वहीं, मीराबाई चानू ने पहला स्वर्ण पदक दिलाया।सभी पहलवानों ने पदक जीतकर इतिहास दोहरायाइसके बाद सभी पहलवानों ने पदक जीतकर इतिहास दोहराया। बॉक्सिंग और बैडमिंटन में भी भारतीय खिलाड़ियों ने कमाल किया। एथलेटिक्स और लॉन बॉल में भी भारतीय खिलाड़ियों ने उम्मीद से भी बेहतर खेल दिखाकर दुनिया को हैरान कर दिया। वहीं पैरा एथलीटों ने भी कई पदक दिलाए। इसी वजह से शूटिंग के न होने के बावजूद भारत इस बार 61 पदक ला पाया।कुश्ती में भारत को सर्वाधिक 12 पदक मिले, सभी भारतीय पहलवानों ने जीते 12 पदकराष्ट्रमंडल खेल 2022 में शानदार प्रदर्शन करते हुए भारतीय पहलवानों ने 12 पदक जीते। जिनमें 6 स्वर्ण, 1 रजत और पांच कांस्य पदक शामिल है। स्वर्ण पदक जहां -रवि दहिया, विनेश फोगाट, नवीन, बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक, दीपक पूनिया को मिला तो वहीं रजत पदक- अंशु मलिक को मिला। इनके अलावा कांस्य पदक प्राप्त करने वाले पहलवानों में पूजा गहलोत, पूजा सिहाग, दीपक नेहरा, मोहित ग्रेवाल,दिव्या काकरान शामिल हैं।भारोत्तोलन में भारत को मिले 11 पदक मिले (एक पैरा भारोत्तोलन)भारोत्तोलन में भारत को 11 पदक मिले, जिसमें 4 स्वर्ण, 3 रजत और 4 कांस्य पदक शामिल हैं। स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले वेटलिफ्टरों में मीराबाई चानू, जेरेमी लालरिनुंगा, अचिंता शेउली, सुधीर (पैरा भारोत्तोलन) हैं। वहीं रजत पदक विजेता बिंदियारानी देवी, संकेत सरगर, विकास ठाकुर हैं। इनके अलावा कांस्य पदक विजेता गुरूराज पुजारी, हरजिंदर कौर, लवप्रीत सिंह, गुरदीप सिंह हैं।एथलेटिक्स में भारत को मिले 8 पदकइस बार इन खेलों में भारत के लिए एथलेटिक्स में उम्मीद से ज्यादा बेहतर परिणाम निकले। भारत ने एथलेटिक्स में 8 पदक जीते, जिसमें 1 स्वर्ण, चार रजत और 3 कांस्य पदक शामिल हैं। एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले एकमात्र खिलाड़ी -एल्धोस पॉल (ट्रिपल जंप) बने। वहीं रजत पदक विजेता सूची में मुरली श्रीशंकर (लांग जंप), प्रियंका गोस्वामी (10 हजार मीटर रेस वॉक), अविनाश साबले ( तीन हजार मीटर स्टीपलचेज), अबदुल्ला अबूबकर (ट्रिपल जंप) का नाम शामिल है। एथलेटिक्स में कांस्य पदक विजेता तेजस्विन शंकर (हाई जंप), संदीप कुमार (1 हजार मीटर रेस वॉक), अन्नू रानी (जैवलिन थ्रो) बने।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *