जनपद में दो दिन से लगातार हो रही झमाझम बारिश के दौरान कई थाना क्षेत्रों में मकान ढहने व फसलों में पानी भरने के साथ मलबे में दबकर बच्ची सहित तीन लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। थाना इगलास क्षेत्र के गांव गदाखेड़ा निवासी 60 वर्षीय लालाराम रविवार की दोपहर करीब 12 बजे घेर पर बंधे पशुओं को खोलने गए थे। गाय को खोलने के दौरान अचानक छत भरभरा कर गिर गई। छत के मलबे में किसान के साथ ही पशु भी दब गए। तेज आवाज सुनकर मौके पर एकत्रित हुए ग्रामीणों ने काफी मशक्कत के बाद सभी पशुओं को सुरक्षित निकाल लिया। वही लालाराम की मलबे में दबने के कारण मौके पर ही मौत हो गई।थाना मडराक क्षेत्र के गांव नोहटी निवासी 30 वर्षीय नरेश बघेल पुत्र लालाराम बघेल रोजाना की तरह शनिवार की रात्रि पत्नी शशि, बेटा कातिक के साथ छत के ऊपर बने कमरे में सो रहे थे। नीचे कमरे में दो दर्जन बकरियां बंधी थी रविवार की सुबह तड़के अचानक भरभरा कर मकान गिर गया। जिसमें पत्नी व बेटा सुरक्षित बच गए। नरेश बघेल की मलबे में दबकर मौत हो गई। वहीं गांव रूस्तमपुर में मोहित पुत्र धर्मवीर का मकान भी बरसात के कारण गिर गया जिसके मलबे में दबकर मोहित की भी मौत हो गयी।थाना अतरौली क्षेत्र के गांव सिमथला निवासी बादशाह की पुत्री नन्दनी उम्र 8 वर्ष घर पर खेल रही थी इसी दौरान अचानक दीवार गिर गयी। दीवार गिरने की सूचना मिलते ही काफी संख्या में ग्रामीण एकत्रित हो गये और परिजनों के साथ दीवार का मलबा हटाकर बच्ची को बाहर निकाला तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस ने चारों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। एडीएम राजस्व अमित कुमार भट्ट ने बताया कि लगातार हो रही बारिस के चलते राज्य सरकार द्वारा तहसील व गांव स्तर पर निरीक्षण करने के निर्देश प्राप्त हुये हैं उसी क्रम में टीमों द्वारा देवीय आपदा से हुयी जनहानि, मकान हानि, पशु हानि या फसल हानि को लेकर मेरे द्वारा व अन्य तहसील की टीमों द्वारा निरीक्षण किया गया है। फसलों के नुकसान का सर्वे कराया जा रहा है और मृतकों के परिवारीजनों को नियमानुसार मुआवजा दिलाया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *