खेलमंत्री अनुराग ठाकुर का पहलवानों के प्रदर्शन पर बड़ा बयान, कहा- आरोपों पर सरकार गंभीर, कार्रवाई करेंगे

खेलमंत्री अनुराग ठाकुर का पहलवानों के प्रदर्शन पर बड़ा बयान, कहा- आरोपों पर सरकार गंभीर, कार्रवाई करेंगे

फाइल फोटो खबरे खटाखटfacebook sharing button

whatsapp sharing button
twitter sharing button
sharethis sharing button
sms sharing button

नई दिल्ली. देश के पहलवान जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. खिलाडिय़ों ने सरकार के सामने डबलूएफआई अध्यक्ष को हटाने और कुश्ती संघ को भंग कराने की मांग रखी है. इस बीच

 खेल मंत्री अनुराग ठाकुर की पहला बयान आया है.

देश के दिग्गज पहलवानों ने रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और भाजपा सांसद के खिलाफ गंभीर आरोप लगाते हुए हटाने की मांग की है. महिला रेसलर विनेश फोगाट ने रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों के शारीरिक शोषण का आरोप लगाया है. रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष को पद से हटाने के लिए जंतर-मंतर पर बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक,  अमित धनखड़, सुजीत मान, जैसे बड़े पहलवानों के साथ धरने पर बैठीं विनेश फोगाट ने कहा है कि उनपर रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने इतने जुल्म ढाए हैं कि वो अपनी जान तक लेना चाहती थीं.

विनेश फोगाट ने बृजभूषण शरण सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने कई लड़कियों का यौन शोषण किया है. विनेश फोगाट ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में हार के बाद रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ने मुझे खोटा सिक्का कहा. रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने मुझे मानसिक तौर पर परेशान किया. मैं हर दिन अपनी जिंदगी खत्म करने के बारे में सोचती थी. अगर किसी भी पहलवान के साथ कुछ होता है तो ये रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष की जिम्मेदारी होगी.

इसके अलावा विनेश फोगाट ने सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा कि कोच महिलाओं का शोषण करते हैं. कुछ कोच जो कि फेडरेशन के फेवरेट हैं वो महिला कोच के साथ भी बदतमीजी करते हैं. वो लड़कियों का यौन शोषण करते हैं. विनेश फोगाट ने आगे कहा कि फेडरेशन हमारी निजी जिंदगी में भी दखल देती है. वो हमें प्रताड़ित कर रही है. जब हम ओलंपिक में गए थे तो हमारे पास ना तो फिजियो थे और ना ही कोच. हमने जब आवाज उठाई तो हमें धमकियां दी गई.

धरने पर बजरंग पूनिया भी बैठे हैं और उन्होंने इस मामले में पीएम मोदी से मदद मांगी. उन्होंने फेडरेशन के मैनेजमेंट को ही बदलने की मांग की. उन्होंने इस मसले पर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से भी मदद मांगी. वहीं रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने आरोपों को सिरे से नकारा. उन्होंने कहा कि शारीरिक शोषण का एक भी मामला नहीं हुआ है. अगर ऐसी चीजें हुई हैं तो वो खुद को फांसी पर लटका लेंगे. उन्होंने कहा कि धरने पर बैठा कोई भी रेसलर ओलंपिक के बाद किसी नेशनल टूर्नामेंट में खेलने नहीं उतरा.

देश के दिग्गज पहलवानों ने रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और भाजपा सांसद के खिलाफ गंभीर आरोप लगाते हुए हटाने की मांग की है. महिला रेसलर विनेश फोगाट ने रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों के शारीरिक शोषण का आरोप लगाया है. रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष को पद से हटाने के लिए जंतर-मंतर पर बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक,  अमित धनखड़, सुजीत मान, जैसे बड़े पहलवानों के साथ धरने पर बैठीं विनेश फोगाट ने कहा है कि उनपर रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने इतने जुल्म ढाए हैं कि वो अपनी जान तक लेना चाहती थीं.

विनेश फोगाट ने बृजभूषण शरण सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने कई लड़कियों का यौन शोषण किया है. विनेश फोगाट ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में हार के बाद रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ने मुझे खोटा सिक्का कहा. रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने मुझे मानसिक तौर पर परेशान किया. मैं हर दिन अपनी जिंदगी खत्म करने के बारे में सोचती थी. अगर किसी भी पहलवान के साथ कुछ होता है तो ये रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष की जिम्मेदारी होगी.

इसके अलावा विनेश फोगाट ने सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा कि कोच महिलाओं का शोषण करते हैं. कुछ कोच जो कि फेडरेशन के फेवरेट हैं वो महिला कोच के साथ भी बदतमीजी करते हैं. वो लड़कियों का यौन शोषण करते हैं. विनेश फोगाट ने आगे कहा कि फेडरेशन हमारी निजी जिंदगी में भी दखल देती है. वो हमें प्रताड़ित कर रही है. जब हम ओलंपिक में गए थे तो हमारे पास ना तो फिजियो थे और ना ही कोच. हमने जब आवाज उठाई तो हमें धमकियां दी गई.

धरने पर बजरंग पूनिया भी बैठे हैं और उन्होंने इस मामले में पीएम मोदी से मदद मांगी. उन्होंने फेडरेशन के मैनेजमेंट को ही बदलने की मांग की. उन्होंने इस मसले पर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से भी मदद मांगी. वहीं रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने आरोपों को सिरे से नकारा. उन्होंने कहा कि शारीरिक शोषण का एक भी मामला नहीं हुआ है. अगर ऐसी चीजें हुई हैं तो वो खुद को फांसी पर लटका लेंगे. उन्होंने कहा कि धरने पर बैठा कोई भी रेसलर ओलंपिक के बाद किसी नेशनल टूर्नामेंट में खेलने नहीं उतरा.

अनुराग ठाकुर ने कहा कि पहलवानों द्वारा लगाए गए आरोप गंभीर प्रकृति के हैं. भारत सरकार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए डब्ल्यूएफआई को नोटिस भेजकर 72 घंटे में जवाब मांगा है. मैं दिल्ली पहुंचने के बाद पहलवानों से मिलने की कोशिश करूंगा. हम उनसे बात करेंगे और उनकी बात सुनेंगे. अनुराग ठाकुर ने कहा, खेल मंत्रालय ने आरोपों पर संज्ञान लेते हुए डब्ल्यूएफआई को नोटिस भेजकर 72 घंटे में जवाब मांगा है. आगामी शिविर भी तत्काल प्रभाव से स्थगित कर दिया गया है. मैं दिल्ली जा रहा हूं और पहलवानों से मिलूंगा.

सड़क पर पहलवानों का दंगल

देश के शीर्ष पहलवानों का सड़क पर दंगल चल रहा है. दिल्ली के जंतर-मंतर पर देश के बड़े पहलवानों का धरना जारी है. पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन शोषण के आरोप लगा है. इस बीच खेल मंत्रालय के न्योते पर प्रदर्शनकारी पहलवानों का प्रतिनिधिमंडल बातचीत के लिए शास्त्री भवन पहुंच गया है.

बृजभूषण पर यौन शोषण के गंभीर आरोप

बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट जैसे बड़े पहलवान बृजभूषण शरण सिंह को हटाने की मांग कर रहे हैं. विनेश फोगाट ने तो बृजभूषण पर यौन शोषण के गंभीर आरोप तक लगाए हैं. जबकि फेडरेशन के चीफ ने आरोपों को गलत बताया है. उन्होंने कहा कि एक भी आरोप सही निकले तो फांसी चढ़ा देना. प्रदर्शन कर रहे खिलाड़ी ओलंपिक मेडल नहीं जीत सकते. उनमें गुस्सा है, प्रदर्शन इसीलिए कर रहे हैं.

सरकार ने दिया संतोषजनक जवाब

पहलवान विनेश फोगाट ने कहा कि आज प्रदर्शन का दूसरा दिन है. हमें सरकार की तरफ से कोई भी संतोषजनक प्रतिक्रिया नहीं मिली है. उन्होंने कहा कि हमें जान का भी खतरा है, हमने पुलिस का प्रोटेक्शन भी नहीं ली है. जब शोषण होता है तो एक कमरे में होता है, वहां कैमरे नहीं लगाए जाते हैं. वे लड़कियां भी हमारे साथ हैं जो इसे साबित कर सकती हैं. विनेश फोगाट ने कहा कि हमारे पास सारे सबूत हैं. हमें सामने आने के लिए मजबूर न किया जाए. अगर कार्रवाई नहीं हुई तो एफआईआर दर्ज कराएंगे. अगर हम जैसे पहलवानों के साथ ऐसा हो रहा है तो बाकी लड़कियां कितनी सुरक्षित हैं. हिंदुस्तान में एक भी लड़की पैदा नहीं होनी चाहिए, अगर हम भी सुरक्षित नहीं तो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *